आप यहाँ हैं   >>   Skip Navigation Linksहोम > हमारे बारे में > संक्षिप्त विवरण

संक्षिप्त विवरण

संचालनालय पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय मध्यप्रदेश की स्थापना वर्ष 1956 में हुई तथा वर्ष 1994 में राजकीय अभिलेखागार में इसका विलय हुआ. मध्यप्रदेश पुरातत्व सम्पदा की दृष्टि से संपन्न है. इस संचालनालय का मुख्य कार्य प्रदेश भर में फैली पुरा सम्पदा का सर्वेक्षण, चिन्हांकन, छायांकन, संकलन, संरक्षण, प्रदर्शन, उत्त्खन्न एवं अनुरक्षण करना है. इसके साथ निजी संग्रह के पुराशेषों का पंजीयन, संग्रहालय में सुरुचिपूर्ण प्रदर्शन, महत्त्वपूर्ण प्रतिमाओं की अनुकृतियों का निर्माण, प्रदर्शनियों एवं पुरातत्व विषय पर केन्द्रित शोध संगोष्ठियों का आयोजन, पुरातत्वीय सामग्रियों का प्रकाशन तथा राजकीय अभिलेखागार के अंतर्गत अभिलेखों एवं महत्वपूर्ण दस्तावेज़ों का संरक्षण, संवर्धन तथा शोध कार्य किये जाते हैं.

आयुक्त/संचालक पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय विभागाध्यक्ष हैं. मुख्यालय स्तर पर उत्त्खनन, सर्वेक्षण, अनुरक्षण, मुद्राशास्त्र, प्रतिकृति, रसायन, छायांकन, प्रकाशन तथा संग्रहालय शाखाएं कार्यरत हैं. राज्य विभाजन के पश्चात् संचालनालय के अंतर्गत तीन क्षेत्रीय उपसंचालक कार्यालय पूर्वी क्षेत्र जबलपुर, पश्चिमी क्षेत्र इंदौर एवं उत्तरी क्षेत्र ग्वालियर के अधीन है. राजकीय अभिलेखागार शाखा के अंतर्गत दो क्षेत्रीय कार्यालय इंदौर एवं ग्वालियर में कार्यरत हैं. नागपुर कार्यालय का रिकॉर्ड भोपाल स्थानान्तरित किया गया है. अभिलेखों को दीर्घ समय तक सुरक्षित रखने एवं इनके रिकॉर्ड हेतु मिक्रोफिल्मिंग इकाई भी भोपाल में स्थापित है.