आप यहाँ हैं   >>   Skip Navigation Linksहोम > शोध संस्थान > शोध संस्थान के बारे में

शोध संस्थान के बारे में

डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर

मध्यप्रदेश की माटी के सपूत डॉ. विष्णु वाकणकर का जन्म 4 मई, 1919 को नीमच में हुआ। वे अध्यवसाय से जीवन पर्यन्त जुड़े रहे। इनमें कला, संस्कृति, चित्रकला और पुरात्तवीय खोज प्रमुख विधाएं थी। डॉ. वाकणकर को प्रसिद्ध पुरातत्वविद् डॉ. एच.डी.सांकलिया, डेक्कन कॉलेज पूणे के मार्गदर्शन में पी.एच.डी की उपाधि सन् 1973 में पूना विश्वविद्यालय द्वारा प्रदान की गई तथा उनका शोध प्रबन्ध पेन्टेड रॉक शेल्टर्स ऑफ़ इण्डिया को संचालनालय पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय द्वारा वर्ष 2005 में प्रकाशित किया गया। विश्व धरोहर स्मारक समूह भीमबैठका की खोज सन् 1975 में डॉ. वाकणकर द्वारा की गई । इसके अतिरिक्त वे मनोटी, इन्द्रगढ़, कायथा, दंगवाड़ा, रूनिजा आदि पुरातत्वीय उत्खननों में संचालक के रूप में मार्गदर्शन देते रहे।

‘‘डॉ. वाकणकर जी, जागो मोहन प्यारे जागों की धुन से भीमबैठका उत्खनन कैंप (जो सन् 1973-1977 तक चला) में सभी को सुबह-सुबह जगाने वाली मनीषी दादा के रूप में प्रसिद्ध थे। उनका गहरा संबंध राज्य के पुरातत्व विभाग से था। वे सदैव उर्जा से भरे रहते और सर्वेक्षण में सभी को सीख देते थे। डॉ. वाकणकर की एक कहानी संग्रह और आर्य समस्या पर हिन्दी व अंग्रेजी में पुस्तके भी प्रकाशित हुई हैं। उनके पास अनेक ताम्रपत्रों, शिलालेखों, प्रतिमाओं, चित्रों आदि का विशाल संग्रह था।

डॉ. वाकणकर भारतीय पुरातत्व परिषद तथा इण्डियन सोसायटी फार प्री एण्ड प्रोटोहिस्टारिक एण्ड क्वाटरनरी स्टडीज के आजीवन सदस्य थे। उन्होने अमेरिका तथा यूरोप की यात्रायें की। वहाँ उन्होने व्यख्यान तथा शैलाश्रयों की चित्रकला की प्रदर्शनियों का आयोजन किया। 1975 में उन्हें पद्मश्री से अंलकृत किया गया। 1976 में अमेरिकन विद्वान आर.आर. ब्रुक्स के साथ शैलचित्रों पर उनकी एक पुस्तक भी प्रकाशित की गई। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में वे प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग में उत्खनन निदेशक के पद पर काफी लम्बे अर्से तक पदस्थ रहें। उन्होंने भीमबैठका के शैलचित्रों का गहन अध्ययन कर उसे विश्व के मानचित्र पर रखा और आज वह विश्व धरोहर स्मारक के रूप में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, भारत सरकार द्वारा संरक्षित है।

डॉ. वाकणकर एक प्रसिद्ध पुरातत्ववेत्ता के रूप में जाते थे। सन् 1988 में उनका निधन हुआ।


 

शासी निकाय सभा/संचालक सभा

क्र.

नाम

सभा पद

धारित पद

1

मान. श्री सुरेन्द्र पटवा

अध्यक्ष

मंत्री, म.प्र.शासन, संस्कृति विभाग

2

श्री मनोज श्रीवास्तव

उपाध्यक्ष

प्रमुख सचिव संस्कृति, म.प्र. शासन

3

श्री अजातशत्रु श्रीवास्तव

सदस्य सचिव

आयुक्त, पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय, भोपाल

4

प्रमुख सचिव/सचिव म.प्र. शासन, उच्च शिक्षा विभाग अथवा उनके प्रतिनिधि

सदस्य

प्रमुख सचिव/सचिव म.प्र. शासन, उच्च शिक्षा विभाग अथवा उनके प्रतिनिधि

5

प्रमुख सचिव/सचिव म.प्र. शासन, वित्त विभाग अथवा उनके प्रतिनिधि

सदस्य

प्रमुख सचिव/सचिव म.प्र. शासन, वित्त विभाग अथवा उनके प्रतिनिधि

6

डॉ. आर. के. अहिरवार

सदस्य

विभागाध्यक्ष, प्रा.भा. इति. सं. एवं पुरातत्व, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन

7

अध्यक्ष, आई.सी. एच. आर

सदस्य

अध्यक्ष या उनके प्रतिनिधि भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली

8

डॉ. सी.एस.सक्सेना

सदस्य

सेवानिवृत उपसंचालक, पुरातत्व, जबलपुर

9

डॉ. नारायण व्यास

सदस्य

95, फाईन एवेन्यू, फेज-1 कोलार रोड़, भोपाल

10

डॉ. एस.बी. ओटा

सदस्य

क्षेत्रीय निदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, जी.टी.बी. काम्पलेक्स, भोपाल


कार्यकारिणी समिति

अध्यक्ष

 श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव, म.प्र.शासन संस्कृति विभाग

     सदस्य सचिव

 श्री अजातशत्रु श्रीवास्तव, आयुक्त, पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय

सदस्य

 प्रमुख सचिव/प्रतिनिधि, म.प्र. शासन, उच्च शिक्षा विभाग

सदस्य

 प्रमुख सचिव/प्रतिनिधि, म.प्र. शासन, वित्त विभाग