English हिंदी
District Archaeological Museum Hoshangabad

संग्रहालय खुलने का समय प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक

प्रत्येक सोमवार एवं शासकीय अवकाश के दिन संग्रहालय बन्द रहेगा।

प्रवेश शुल्क:


भारतीय नागरिक:5.00 प्रति व्यक्ति (
(15 वर्ष तक के बच्चे निशुल्क)


विदेशी नागरिक:रू. 50.00 प्रति व्यक्ति

फोटोग्राफी शुल्क:रू. 50.00 प्रति कैमरा


वीडियोग्राफी शुल्क:रू. 200.00 प्रति कैमरा

प्लास्टर कास्ट एवं प्रकाशन विक्रय केन्द्र पर विभागीय प्रकाशन की पुस्तकें, फोल्डर, पोस्ट कार्ड एवं प्लास्टर कास्ट प्रतिकृतियां उपलब्ध है

जैन प्रतिमाऐं-

म.प्र. शासन, संस्कृति विभाग द्वारा होशंगाबाद में जिला संग्रहालय की स्थापना सन् 1983 में की गई। वर्तमान में जिला संग्रहालय होशंगाबाद में कुल 218 पुरावशेष संकलित है जिनमें प्रमुखता शैव, वैष्णव तथा जैन धर्म से संबंधित है इसके अतिरिक्त व्यन्तर प्रतिमाऐं संकलित है। वैष्णव प्रतिमाओं में शेषशायी विष्णु, गरूडासीन लक्ष्मीनारायण, केशव, विष्णु आदि की प्रतिमाऐं प्रमुख है। शैव प्रतिमाओं में शिव, उमा-महेश्वर,गणेश, कार्तिकेय आदि की प्रतिमाऐं प्रमुख हैं। जैन प्रतिमाओं में पार्श्वनाथ आदि तीर्थंकरों, गोमेध-अंबिका, आदि की प्रतिमाऐं प्रमुख है। इनमें कतिपय प्रतिमाऐं शिलालेखयुक्त है। साथ ही नवगृह, नर्तक-नृत्यांगनायें, सिंहव्याल, कीर्तिमुख, भारवाही कीचक, चतुष्टिकाऐं भी सम्मिलित है।

जैन प्रतिमाऐं-

संग्रहालय में प्रतिमाओं को तीन वीथियों यथा वैष्णव, शैव तथा जैन वीथिकाओं में प्रदर्शित किया गया है। तथा शेष प्रतिमाओं को आकार प्रकार अनुसार संग्रहालय परिसर में ईटो के पैडस्टलों का निर्माण कर उन पर प्रदर्शित किया गया है। शेष कलाकृतियां एवं जीवाश्म भण्डार गृह सुरक्षित हैं।