आप यहाँ हैं   >>   Skip Navigation Linksहोम > शोध संस्थान > अनुसंधान गतिविधियाँ

अनुसंधान गतिविधियाँ

डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान मध्यप्रदेश के पुरातत्व व संस्कृति के क्षेत्र में बहुआयामी शोध कार्यों में संलग्न है यथाः-
 
1. सर्वेक्षण: मध्यप्रदेश पुरासम्पदा की दृष्टि से अत्यंत समृद्ध है। संस्थान वैज्ञानिक पद्धति से अन्वेषण कर प्रदेश में यत्र-तत्र उपलब्ध पुरावशेषों को प्रकाश लाने का प्रयास कर रहा है जिससे प्रदेश के इतिहास एवं पुरातत्व को समग्रता की ओर ले जा सकें। संस्थान द्वारा किए गए प्रमुख सर्वेक्षण इस प्रकार हैं 
2. उत्खनन: सर्वेक्षण से मानव समाज के प्राचीन आवास स्थलों की खोज के पष्चात उन टीलों का उत्खनन किया जाता है जहाॅ आवास के प्रमाण शनैः शनैः संचित होकर पृथ्वी के धरातल पर बन जाते हैं। उत्खनन से मानव की उपयोग की गई सामग्री विभिन्न स्तरों में कालक्रम के अनुसार प्राप्त होता है जिससे इतिहास का अनुक्रम एवं संस्कृति का व्यापक अध्यनन किया जाता है। संस्थान ने प्रदेष के दो स्थलों मनोरा (सतना, म.प्र.) एवं गम्भीरवाटोला-दरसागर, अमरकंटक का उत्खनन किया गया। 
 3. पुरावशेषों का अभिलेखीकरण: प्रदेश की ज्ञात पुरासम्पदा के बेहतर संरक्षण, संबर्द्धन एवं नवीन पीढ़ी को उससे जोड़ने के लिए की पुरावषेषों व स्मारकों की समग्र जानकारी सहित अभिलेखीकरण संस्थान द्वारा किया जा रहा है। 
4. ध्वस्त स्मारकों की मलवा सफाई शोध कार्य: अन्वेषण कार्य के दौरान प्रदेश में प्राचीन काल के अनेक मंदिर व अन्य स्मारक ध्वस्त स्थिति में प्राप्त होते हैं, संस्थान उनका वैज्ञानिक पद्धति से मलवा सफाई का कार्य करके कलाकृतियों एवं अन्य पुरावशेषों को प्रकाश में लाने का शोध कार्य कर रहा है। 
5. कार्यशाला: विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों, शोधार्थियों एवं छात्रों को पुरातत्व की विभिन्न विधाओं एवं नवीन तकनीकों का प्रशिक्षण संस्थान द्वारा दिया जा रहा है। 
6. संगोष्ठी व सम्मेलन: मध्यप्रदेश के पुरातत्व इतिहास व संस्कृति के क्षेत्र में नवीन तथ्यों एवं उनकी व्याख्या व विमर्श हेतु विद्वानों आमंत्रित कर संस्थान संगोष्ठी व विद्वत सम्मेलन आयोजन करता है। 
7. विशेष व्याख्यान: मध्यप्रदेश के पुरातत्व इतिहास व संस्कृति के क्षेत्र में नवीन तथ्यों एवं उनकी व्याख्या हेतु विद्वानों आमंत्रित कर संस्थान विशेष व्याख्यान का आयोजन करता है। 
8. प्रदर्शनी: 
9. शोध पत्रिका एवं शोध ग्रन्थों का प्रकाशन:  
10. क्विज एवं प्रतियोगिताएँ: