आप यहाँ हैं   >>   Skip Navigation Links

सीनियर फैलोशिप

वरिष्ठ अनुसंधान अध्येतावृतिः-

मध्यप्रदेश के पुरातत्व, इतिहास एवं संस्कृति के क्षेत्र में अनुसंधान को प्रोत्साहित करने हेतु संस्थान दो वरिष्ठ अनुसंधान अध्येतावृति प्रदान कर रहा है। इस योजना में कनिष्ठ अनुसंधान अध्येता को दो वर्ष रू. 40000/- प्रतिमाह अध्येतावृत्ति एवं रू. 50000/- की राशि प्रतिवर्ष आकस्मिक अनुदान प्रदाय किया जाता है।


आवेदनः-

अध्येतावृत्तियों हेतु आवेदन-पत्र अखिल भारतीय विज्ञापन के माध्यम के माध्यम से निर्धारित प्रारूप मे आमंत्रित किए जाते हैं।


आयु सीमाः-

आवेदक की आयु न्यूनतम 40 वर्ष एवं अधिकतम 65 होना चाहिए।


न्यूनतम योग्यताः-

अभ्यर्थी यू.जी.सी. से मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से प्राचीन या मध्यकालीन भारतीय इतिहास/संस्कृति/पुरातत्व/संग्रहालय विज्ञान/कला का इतिहास/ पर्यटन व विरासत विषय मे स्नातकोत्तर हो एवं पुरातत्व या उपरोक्त में से किसी एक विषय का उत्कृष्ट विद्वान हो, साथ ही 15 वर्ष का शोध (सर्वेक्षण एवं उत्खनन) अनुभव हो एवं एक पुस्तक व 15 शोध पत्र राष्ट्रीय/अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित हों। अथवा विश्वविद्यालय या महाविद्यालय स्तर पर 15 वर्ष का अध्यापन अनुभव एवं एक पुस्तक व 15 शोध पत्र राष्ट्रीय/अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित हों।

उत्कृष्ट स्तर के शोध प्रकाशन/सर्वेक्षण/उत्खनन होने पर प्रकाशित शोध पत्रों की संख्या शिथिलनीय होगी।


संस्थान द्वारा 2014-15 में अवार्ड वरिष्ठ अनुसंधान अध्येतावृतिः-

1. प्रो. रवि कोरिसेट्टर,
इन्दु निवास, संगम बिल्डिंग,
सप्तापुर लास्ट क्रास,
जया नगर, धारवाड़, 580001
विषय:- Prehistoric Rock Art of M.P. and Peninsular South India a Comparative Study Testing the Hypothesis of Mobility range of Hunter-gatherer and Agro-Pastoral communities.

 अवधिः- दि. 01.03.2015 से 28.02.2017 तक


2. डॉ. श्यामशरण गुप्त,
118, फ्लैमिगो, आकृति ईको सिटी, भोपाल
विषयः- म.प्र. के चित्रित शैलाश्रयों में स्थित बौद्ध विहारों का गहन अध्ययन

अवधिः- दि. 01.03.2015 से 28.02.2017 तक